Sentence

(वाक्य)

Generally, we use words in groups. "A group of words, which makes a complete sense, is called Sentence".

Pattern of sentence:

1.    हिन्दी में वाक्य रचना निम्न प्रकार से हैं -

कर्ता

+

कर्म     

+

क्रिया    

Subject

+

object

+

verb

झंकार   

+

खाना    

+

खा रहा हैं।

 

2.    Pattern of sentence in English-

कर्ता     

+

क्रिया    

+

कर्म

Subject

+

verb

+

object

Jhankar

+

is eating

+

the food.

 

Subject: The subject answers the question: Who?

      हिन्दी के वाक्य में क्रिया के साथ कौन या किसने का उत्तर बताने वाले शब्द कर्ता कहलाता हैं।

Verb: Verb tells something about subject.

      कार्य का करना या होना क्रिया कहलाता हैं।

Object: The object answers the question: What or Whom?

      हिन्दी के वाक्य में क्रिया के साथ क्या या किसने का उत्तर बताने वाले शब्द कर्म कहलाते हैं।

Part of the Sentence:

      Each sentence has a subject to speak about and say or predicate something about that subject. So every sentence has two parts-

1.      Subject: A person and thing about which something is said is known as subject.

      वाक्य का वह भाग जिसमें किसी व्यक्ति या वस्तु की जानकारी हो, कर्ता कहलाता हैं।

2.      Predicate: Something which is said about the subject is called predicate.

      वाक्य का वह भाग जो कर्ता के बारे में कुछ कहे, विधेय कहलाता हैं।

Example:

Jhankar

+

is eating the food

(Subject)

 

(predicate)

Generally sentences are of five types.

1.      Assertive sentence

2.      Interrogative sentence

3.      Imperative sentence

4.      Optative sentence

5.      Exclamatory sentence

1.      Assertive sentence (निश्चयात्मक वाक्य): A sentence that makes a statement or declaration is called Assertive sentence.

वे वाक्य जिसमें साधारण रुप से कोई बात या कथन कहा जाए, उन्हें साधारण या निश्चयात्मक वाक्य कहते हैं।

 

Assertive sentence are of two types-

1.      Affirmative sentence (सकारात्मक वाक्य): A sentence which, states something which shows affirmation is called affirmative sentence.

वे वाक्य जिनमें स्वीकार योग्य कथन कहा गया हो, सकारात्मक वाक्य कहलाते हैं।

Example:

1.    झंकार एक होशियार लड़का हैं।

Jhankar is an intelligent boy.

2.      Negative sentence (नकारात्मक वाक्य): A sentence which, states something which shows denial is called negative sentence.

      वे वाक्य जिनमें नकारात्मक शब्दों का प्रयोग होता हो, नकारात्मक वाक्य कहलाते हैं।

Example:

1.    सुनिल एक होशियार लड़का नही हैं।

Sunil is not an intelligent boy.

 

2.      Interrogative sentence (प्रश्नवाचक वाक्य): A sentence which asks question or enquires about something is called interrogative sentence.

      वे वाक्य जो प्रश्न पूछे या किसी के बारे में खोज करें,प्रश्नवाचक वाक्य कहलाते हैं।

Interrogative sentences are of two types-

1.      Sentence starting with “Helping verb”:

सहायक क्रिया से प्रारम्भ होने वाले वाक्यों का उत्तर हाँ या ना में आता हैं।

Example:

1.    क्या सुनिल एक ईमानदार लड़का हैं?

Is Sunil an honest boy?

2.    क्या राम पढ़ रहा होगा?

Will Ram be reading?

2.      Sentence starting with “Question word”:

प्रश्नवाचक शब्दों से प्रारम्भ होने वाले वाक्यों में किसी तथ्य की पूर्ण खोज की जाती हैं।

Example:

1.    तुम्हारा प्रधानाध्यापक कौन हैं?

Who is your headmaster?

2.    तुम्हारा नाम क्या हैं?

What is your name?

 

3.      Imperative sentence (आज्ञासूचक वाक्य): A sentence which shows order, advice, suggestion, prohibition and request is called imperative sentence.

वाक्य जिसमें आज्ञा, सलाह, सुझाव, प्रार्थना आदि हो, आज्ञासूचक वाक्य कहलाते हैं।

Example:

1.    हाँ आइये।

Come here.                                   (order)

2.    कृपया दरवाजा बन्द कीजिये।

Please, shut the door.                                                            (request)

3.    धूम्रपान मत कीजिये।

Don’t smoke.                                                                           (prohibition)

 

4.      Optative sentence (कामनासूचक वाक्य): A sentence which shows a wish, a blessing or a prayer is known as optative sentence.

ऐसे वाक्य मो इच्छा, प्रार्थना या शुभकामना आदि दर्शाते हो, कामनासूचक वाक्य कहलाते हैं। अंग्रेजी में ऐसे वाक्य Wish /May से प्रारम्भ होते हैं।

Example:

1.    आपकी यात्रा सुखद हो।

Wish you happy journey.                                                      (Blessing)

2.    आपका भाग्योंदय हों।

Wish him best of luck.                                                           (Blessing)

3.    भगवान आपको लम्बी आयु दे।

May you live long!                                                                   (Wish)

4.    भगवान आपकी मदद करें।

May God help you!                                                                 (Prayer)

      May से प्रारम्भ होने वाले कामनासूचक वाक्यों (optative sentence) के अन्त में विस्मयादिबोधक चिन्ह (!) लगाते हैं।

 

5.      Exclamatory sentence (विस्मयादिबोधक वाक्य): A sentence which shows mental passions, thoughts, sudden feelings of mind is known as exclamatory sentence.

वाक्य जो अचानक आये हुए विचारों या मानसिक भावनाओं को प्रकट करें विस्मयादिबोधक वाक्य कहलाते हैं। विस्मयादिबोधक वाक्यों (Exclamatory sentence) के अन्त में विस्मयादिबोधक चिन्ह (!) लगाते हैं।

Example:

1.    वाह-वाह ! हमारी टीम ने मैच जीत लिया हैं।

Hurrah! Our team has won the match.

2.    ओह ! अनिल यहाँ हैं।

Oh! Anil is here.

3.    ओफ ! उड़ीसा में कई लोग मरें।

Alas! Many people died in Orrisa.

What तथा How का प्रयोग करके भी विस्मयादिबोधक वाक्य बनाये जाते हैं। ऐसे वाक्यों के अन्त में सहायक क्रिया या क्रिया के बाद में विस्मयादिबोधक चिन्ह (!) लगाया जाता हैं।

Example:

4.    झंकार कितना अच्छा लड़का हैं!

What a good boy Jhankar is!

5.    वे कितना धीरे चल रहे हैं!

How slowly they are walking!