Adverbs

(क्रिया विशेषण)

किसी क्रिया या विशेषण की विशेषता बताने वाले शब्द को क्रिया विशेषण कहते हैं।

Adverbs are connected with the verb. It adds to the meaning of the verb and tells us how a thing is done, when it is done or where it is done.

Example:

1.      मनोज एक बहुत चतुर लड़का हैं।

Manoj is a very claver boy.

2.      सुर्य बहुत तेजी से चमकता हैं।

The sun shines, brightly.

3.      वह बहुत धारे चलती हैं।

She walks slowly.

4.      तुम बहुत मिठा बोलते हो।

You speak sweetly.

      विशेषण से पहले Too, So, Very, Quite, Rather, Fairly आदि शब्द जोड़कर क्रिया विशेषण बनाते हैं। ये सभी ‘बहुत’ का अर्थ देते हैं।

      विशेषण के साथ ly जोड़कर भी क्रिया विशेषण बनाते हैं। ये सभी ‘से’ का अर्थ देते हैं। (Honestly, Cleverly, Bravely, Slowly)

 

Adverbs are classified as follows –

1.    Adverb of time (which show when)

2.    Adverb of frequency (which show how often)

3.    Adverb of place (which show where)

4.    Adverb of manner (which show how or in what manner)

5.    Adverb of degree / quantity (which show how much)

6.    Adverb of sentence

 

1.    Adverb of time (which shows when): An adverb shows the time of an action called adverb of time.

ये क्रिया विशेषण क्रिया का समय बताते हैं। इनका प्रयोग वाक्यों के अन्त में किया जाता हैं। ये क्रिया विशेषण सामान्यतया क्रिया के साथ 'कब' प्रश्न का उत्तर देते हैं। ये निम्न हैं - Yet, now, soon, yesterday, today, tomorrow, then, far, so, daily, before, late, since and everyday.

 

Example:

1.    मेरे पिताजी कल घर आयें।

My father came home yesterday.

2.    वह यहाँ रोजाना आता हैं।

He comes here daily.

3.    हमें अब कार्य प्रारम्भ करना चाहियें।

We shall now begin to work.

4.    कल मेरे घुटने में चोट लग गई।

I hurt my knee yesterday.

5.    उसे कुछ मिनट पहले यहाँ बुलाया गया था।

He called here a few minutes ago.

6.    मैं सुबह जल्दी नही उठता हूँ।

I don’t get up too early in the morning.

 

2.    Adverb of frequency (which shows how often): An adverb shows the frequency of an action called adverb of frequency.

ये क्रिया विशेषण क्रिया की बारम्बारता को दर्शाते हैं। इनका प्रयोग वाक्यों में सहायक क्रिया तथा क्रिया के बीच में किया जाता हैं। ये क्रिया विशेषण सामान्यतया क्रिया के साथ 'कितनी बार' प्रश्न का उत्तर देते हैं। ये निम्न हैं -

 

always

-

सदैव

Sometimes

-

कभी-कभी

Usually

-

हमेशा की तरह

Often

-

बहुधा या प्राय:

Rarely

-

मुश्किल से ही

Frequently

-

बारम्बार

Just

-

अभी-अभी

Already

-

पहले से ही

Seldom

-

कभी-कभार

Ever

-

कभी

Never

-

कभी भी नही

Occasionally

-

कभी-कभी

 

इनका प्रयोग सहायक क्रिया (helping verb) के बाद तथा मुख्य क्रिया (main verb) से पहले किया जाता हैं।

सहायक क्रिया + adverb + क्रिया

 

Example:

1.    नवेन्दु हमेशा कठोर परिश्रम करता हैं।

Navendu always works hard.

2.    राम कभी भी कुछ नही सीख सकता हैं।

Ram can never learn anything.

3.    मैंने उसे एक बार भी नही देखा।

I have not seen him once.

4.    वह प्राय: गल्तियाँ करता हैं।

He often makes mistakes.

5.    वह कभी-कभार यहाँ आता हैं।

He seldom comes here.

 

3.    Adverb of place (which shows where): An adverb shows the place of an action called adverb of place.

ये क्रिया विशेषण क्रिया होने का स्थान बताते हैं। इनका प्रयोग object के बाद, या object नही होने पर क्रिया के बाद में किया जाता हैं। ये क्रिया विशेषण सामान्यतया क्रिया के साथ 'कहाँ' प्रश्न का उत्तर देते हैं। ये निम्न हैं - Here, There, Up, Down, Away, Everywhere, Anywhere, Near, In, Out etc.

 

Example:

1.    मैंने वहाँ एक वृद्ध व्यक्ति को बैठे देखा।

I saw an old man sitting there.

2.    उसने ऊपर देखा।

He looked up.

3.    मेरा भाई बाहर हैं।

My brother is out.

4.    यहाँ रूको।

Stand here.

5.    क्या तुम कभी वहाँ  गये हो।

Do you ever go there?

 

4.    Adverb of manner (which shows how or in what manner): An adverb shows the manner of an action called adverb of manner.

ये क्रिया विशेषण क्रिया होने का तरीका बताते हैं। इनका प्रयोग object के बाद, या object नही होने पर क्रिया के बाद में किया जाता हैं। ये क्रिया विशेषण सामान्यतया क्रिया के साथ 'कैसे या किस तरह' प्रश्न का उत्तर देते हैं। ये निम्न हैं - Quickly, fast, bravely, slowly, happily, badly, clearly, well, lazily and hard

 

Example:

1.    वह धीरे चलता हैं।

He walks slowly.

2.    नवेन्दु अच्छी तरह से अंग्रेजी लिख सकता हैं।

Navendu can write English well.

3.    हरि कठोर परिश्रम करता हैं।

Hari works hard.

4.    वह तेज दौडा़।

He ran fast.

5.    उसने जल्दी से प्रश्न का उत्तर दिया।

He answered the question quickly.

6.    उसने खुशी-खुशी अपना पेन मुझे दे दिया।

He gave me his pen happily.

 

5.    Adverb of degree / quantity (which show how much): An adverb shows the state of an action called adverb of degree.

ये क्रिया विशेषण क्रिया का स्तर बताते हैं। ये वाक्य में आये adjective तथा अन्य adverb की विशेषता बताते हैं। इनका प्रयोग adjective या adverb के पहले किया जाता हैं। ये क्रिया विशेषण सामान्यतया क्रिया के साथ 'कितना' प्रश्न का उत्तर देते हैं। ये निम्न हैं - Very, So, Too, Quite, Fully, Rather, almost, pretty, Partly etc.

 

Example:

1.    वह बहुत लापरवाह था।

He was too careless.

2.    नवेन्दु बहुत अच्छी तरह से गाता हैं।

Navendu sings pretty well.

3.    वह बहुत थका हुआ था।

He was very tired.

4.    रजनी बिल्कुल ठीक हैं।

Rajni is quite well.

 

6.    Adverb of sentence: At the beginning of sentences, Adverb modifies the whole sentence rather than particular word.

ये क्रिया विशेषण किसी एक शब्द की विशेषता बताने के बजाय पूरे वाक्य के बारे में जानकारी देते हैं। ये निम्न हैं - certainly, luckily, possibly, probably, unfortunately etc.

 

Example:

1.    निश्चित रूप से राम जिम्मेदारी से कार्य करता हैं।

Certainly Ram works with responsibility.  

2.    सम्भवत: उसने अपना मकान बेच दिया हैं।

Probably he has sold his house.

3.    दुर्भाग्य से वहाँ कोई भी मौजूद नही था।

Unfortunately no one was present there.

 

7.    Interrogative Adverb: When Adverb asks a question, it is termed as Interrogative Adverb.

जब क्रिया विशेषण कोई प्रश्न पूछने के प्रयोग में आये तो उसे प्रश्नवाचक क्रिया विशेषण कहते हैं।

 

Example:

1.    वह कब आएगा ?

When will he come?                                                              (Time)

2.    तुम कहाँ जा रहे हो ?

Where are you going?                                                           (Place)

3.    तुमने यह कैसे किया ?

How did you done it?                                                             (Manner)

4.    दंगों में कितने घायल हुए ?

How many injured in the riot?                                             (Number)

5.    तुम कैसे हो ?

How are you?                                                                          (Degree)

 

Position of Adverb:

1.    Adverb of manner का प्रयोग सामान्यतया: कर्म (object) के बाद में, या कर्म नही हो तो क्रिया के बाद में किया जाता हैं।

 

Example:

1.    बहुत तेज वर्षा हो रही हैं।

It is raining heavily.

2.    वह सावधानीपूर्वक वाहन चलाता हैं।

He drives vehicle carefully.

 

2.    Adverb of place and time का प्रयोग सामान्यतया: कर्म (object) के बाद में, या कर्म नही हो तो क्रिया के बाद में किया जाता हैं।

 

Example:

1.    वह कल मुझसे मिला।

He met me yesterday.

2.    मैंने उसे सभी जगह तलाश लिया।

I looked him everywhere.

 

3.    यदि वाक्य में एक से अधिक क्रिया विशेषण हो तो उन्हें क्रिया या कर्म के बाद सामान्यतया: निम्न क्रम में लिखा व बोला जाता हैं।

Sub +verb +obj +adv of manner +adv of place +adv of time

      परन्तु कई बार Adverb of place (here, there, away, home, back, forward, backward) का प्रयोग Adverb of manner से पहले किया जाता हैं।

 

Example:

1.    बच्चे कल रात मंच पर उत्साहपूर्वक नाच रहे थे।

Children were dancing earnestly on the stage last night.

2.    हमें कल शाम वहाँ जाना चाहिये।

We should go there tomorrow evening.

3.    वह खुशी-खुशी घर गया।

He went home happily.

4.    मैं जल्दी ही वापस आ जाऊँगा।

I will come back quickly.

5.    सावधानीपूर्वक आगे बढ़ो।

Move forward carefully.

6.    विश्वासपूर्वक वहाँ जाओं।

Go there confidently.

 

4.    Adverb of frequency का प्रयोग सामान्यतया: कर्ता (subject) तथा क्रिया (verb) के बीच में किया जाता हैं, और यदि वाक्य में सहायक क्रिया (is, are, am, has, was) का प्रयोग किया गया हो तो इन्हें सहायक क्रिया के बाद में लिखा जाता हैं।

 

Example:

1.    मैं कभी सिगरेट नही पीता।

I never smoke cigarette.

2.    चित्रांगदा अभी-अभी विद्यालय गई हैं।

Chitrangda has just gone to school.

 

5.    Adverb को सामान्यतया: have to तथा used to से पहले लिखा जाता हैं।

 

Example:

1.    मुझे हमेशा पैदल बाजार जाना पड़ता हैं।

I often have to go to market on foot.

2.    वह हमेशा देरी से सोया करता था।

He always used to sleep late.

 

6.    Adverb जब किसी Adjective या किसी दूसरे Adverb की विशेषता बतलाये तो क्रिया विशेषण को इनसे पहले लिखा जाता हैं, परन्तु enough को हमेशा बाद में लिखा जाता हैं। क्रिया विशेषण only को उस शब्द से पहले लिखा जाता हैं, जिसकी यह विशेषता बतलाता हैं।

 

Example:

1.    यह किताब बड़ी रूचिकर हैं।

This book is very interesting.

2.    राजेश इतना धनवान हैं कि वह कार खरीद सकता हैं।

Rajesh is rich enough to buy a car.

3.    मैं केवल दो घंटे सोया।

I have slept only two hours.

 

7.    कुछ Adverb का प्रयोग preposition के बाद noun के रुप में किया जाता हैं।

 

Example:

1.    वह यहाँ से बहुत दूर रहता हैं।

He lives far from here.

2.    मैंने ऐसा पहले भी सुना हैं।

I have heard this before now.

 

Formation of Adverb:

1.    Adjective के साथ ly जोड़कर Adverb of manner बनाते हैं।

 

Adjective

Adverb

Clever

Cleverly

Wise

Wisely

Beautiful

Beautifully

Kind

Kindly

Quick

quickly

Earnest

Earnestly

Foolish

foolishly

Careful

Carefully

Happy

Happily

Ready

Readily

Heavy

Heavily

Single

Singly

Double

Doubly

Pretty

Prettily

 

2.    संज्ञा से पूर्व a तथा preposition लगाक क्रिया विशेषण बनाते हैं।

Afoot, abed, asleep, aboard, away

Besides, to-day, overboard, to-morrow

3.    कुछ क्रिया विशेषण Adjective तथा preposition के संयुक्त रूप होते हैं।

Along, behind, beyond, below, ahead of, far from

4.    कुछ क्रिया विशेषण Adverb तथा preposition के संयुक्त रूप होते हैं।

Within, without, before, thereby, hereafter, thereon

5.    कुछ क्रिया विशेषण and के साथ जुड़कर साथ-साथ प्रयोग में लाये जाते हैं।

Again and again, far and away, now and then, on and off, over and over, to and fro, in and out, first and foremost.

 

Example:

1.    तुम वही गलती बार-बार कर रहे हो ।

You are making same mistake again and again.

2.    वह कभी-कभी मुझसे मिलता हैं।

He meets me now and then.